ये बारिश जब भी आती है

ये बारिश जब भी आती है

ये बारिश जब भी आती है, यादें ताज़ा कर जाती है |   आज सुबह से ही बरस रही है, बनकर मोतियों की झड़ी | ठीक ऐसी ही एक झड़ी में, मैंने तुम्हारा हाथ थामा था | उस गीली हथेली की गर्माहट, जिसमें प्रेम और लाज थी, वो गर्माहट आज फिर...Read more